Browsing Tag

Hikmat

जानिए – क्यों मनायी जाती है बकरी ईद

ईद उल अज़हा को सुन्नते इब्राहीम भी कहते है। इस्लाम के मुताबिक, अल्लाह ने अपने नबी(प्रेषित) हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की परीक्षा लेने के उद्देश्य से अपनी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी देने का हुक्म दिया। - हजरत इब्राहिम को लगा कि उन्हें सबसे…

जानिए- क्यों मनाई जाती ही क़ुरबानी ईद ? (क़ुरबानी की हिक़मत)

"कह दो कि मेरी नमाज़ मेरी क़ुरबानी 'यानि' मेरा जीना मेरा मरना अल्लाह के लिए है जो सब आलमों का रब है" - (कुरआन 6:162) *बकरा ईद का असल नाम "ईदुल-अज़हा" है, मुसलमानों में साल में दो ही त्यौहार मजहबी तौर पर मनाए जाते हैं एक "ईदुल फ़ित्र" और दूसरा…

हज की हिकमत ( Hajj ki Hikmatain )

यह बात हर मुसलमान जानता है कि हज इस्लाम की बुन्यादों में से एक है, और हज अदा करने के फज़ाईल भी लोग आम तौर पर जानते ही हैं लेकिन अक्सर मुसलमान "हज की हिकमत (Logic)" से अनजान हैं और जिस इबादत से हिकमत निकल जाती है वह इबादत एक बेजान जिस्म की…

Kya Quraan Mushkil Kitab Hai ?

» JAWAAB: Log Allah Ki Hidayat Se Door Rahe Isliye Mafadparsto ne Shariyate Islamiya me Beshumar Tawhaam Gadhey , in me se Ek Ye Bhi hai Ke Quraan Bohot Mushkil Kitab hai, Lihaja Aam Log Isey Samjh nahi Saktey ,.. Tou Aayiye Dekhte Hai Ke…

Hasad Sirf Do Baaton Me Jayaz ….

♥ Mafhoom-e-Hadees: Abdullah Bin Mas'ud (Razi'Allahu Anhu) Se Riwayat Hai Ki, Rasool'Aallahu (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya - "Hasad Sirf Do Baato Me Jayaz Hai,.." ∗(1). (Ek) Tou Uss Shakhs Ke Baare Me JiseY Allah Ta'ala Ne…

Logon Ko Haq Ki Dawat Acchi Naseehaton Se Do ….

♥ Al-Quraan : Bismillah-Hirrahman-Nirrahim !!! "Aye Rasool (Sallallahu Alaihay Wasallam) ! Aap Logon Ko Apne Parwardigaar Ki Raah Par Hikmat Aur Acchi Acchi Naseehat Ke Jarye Se Bulao Aur Bahas Wa Mubahisa Karo Tou Iss Tarikey Se Jo…

Allah Ke Siwa Koi Mabood Nahi ….

♥ Al-Quraan : Bismillah-Hirrahman-Nirrahim !!! "Wohi Allah Hai Jiske Siwa Koi Mabood Nahi Hai Wo Posheeda Aur Zaahir Ka Jaan'ne Waala Hai, Woh Bada Meharbaan Aur Nihaayat Reham Waala Hai. Wohi Allah Hai Jiske Siwa Koi Ibaadat Ke Laayeq…

Hasad – Ek Akhlaaqi Burayi ….

# Hasad Kise Kehte Hai ? *Kisi Ko Khaata-Peeta Ya Falta-Foolta Dekh Kar Dil Me Jalna Aur Uski Neymato Ke Zawaal (Khatam Hone) Ki Tamanna Karna Iss Kharaab Aadat Ka Naam "Hasad" Hai,... # Roo-e-Zameen Ka Sabse Pehla Qatl Bhi Hasad…