Browsing Tag

Hajj

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) का विदायी अभिभाषण (इस्लाम में मानवाधिकार)

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) ईश्वर की ओर से, सत्यधर्म को उसके पूर्ण और अन्तिम रूप में स्थापित करने के जिस मिशन पर नियुक्त किए गए थे वह 21 वर्ष (23 चांद्र वर्ष) में पूरा हो गया और ईशवाणी अवतरित हुई : ‘‘...आज मैंने तुम्हारे दीन (इस्लामी जीवन…

हज की हिकमत ( Hajj ki Hikmatain )

यह बात हर मुसलमान जानता है कि हज इस्लाम की बुन्यादों में से एक है, और हज अदा करने के फज़ाईल भी लोग आम तौर पर जानते ही हैं लेकिन अक्सर मुसलमान "हज की हिकमत (Logic)" से अनजान हैं और जिस इबादत से हिकमत निकल जाती है वह इबादत एक बेजान जिस्म की…

Haaji Ka Laqab Lagana Kaisa ?

» Sawaal: Apne Naam Ke Aagey 'Haaji' Ka Laqab Lagana Kaisa? ... ♥ Jawab: Hajj Ek Aisi Ibadat Hai Jo Har Sahibe Istehat Musalmano Par Farz Hai,.. Lekin Hajj Ki Niyat Sirf Allah Ki Ibadat Ho, Aur Dikhawe Se Paak Ho.. Bilkhusus Hajj Wo…

जानिए – रोज़ा क्या और क्यों ?

» इंसान के बुनियादी सवाल !!! - इस सम्पूर्ण विश्व और इंसान का अल्लाह (ईश्वर) एक है। ईश्वर ने इंसान को बनाया और उसकी सभी आवश्यकताओं को पूरा करने का प्रबंध किया। इंसान को इस ग्रह पर जीवित रहने के लिए लाइफ सपोर्ट सिस्टम दिया। इंसान को उसके…