Swami Vivekanand About Islam

» NonMuslim View About Islam: स्वामी विवेकानंद (विश्व-विख्यात धर्मविद्)
“मुहम्मद(स.) साहब (इन्सानी) बराबरी, इन्सानी भाईचारे और तमाम मुसलमानों के भाईचारे के पैग़म्बर थे। … जैसे ही कोई व्यक्ति इस्लाम स्वीकार करता है पूरा इस्लाम बिना किसी भेदभाव के उसका खुली बाहों से स्वागत करता है, जबकि कोई दूसरा धर्म ऐसा नहीं करता। …

*हमारा अनुभव है कि यदि किसी धर्म के अनुयायियों ने इस (इन्सानी) बराबरी को दिन-प्रतिदिन के जीवन में व्यावहारिक स्तर पर बरता है तो वे इस्लाम और सिर्फ़ इस्लाम के अनुयायी हैं। …

*मुहम्मद(स.) साहब ने अपने जीवन-आचरण से यह बात सिद्ध कर दी कि मुसलमानों में भरपूर बराबरी और भाईचारा है। यहाँ वर्ण, नस्ल, रंग या लिंग (के भेद) का कोई प्रश्न ही नहीं। … इसलिए हमारा पक्का विश्वास है कि व्यावहारिक इस्लाम की मदद लिए बिना वेदांती सिद्धांत—चाहे वे कितने ही उत्तम और अद्भुत हों विशाल मानव-जाति के लिए मूल्यहीन (Valueless) हैं …” – @[156344474474186:]
– टीचिंग्स ऑफ विवेकानंद, पृष्ठ-214, 215, 217, 218) अद्वैत आश्रम, कोलकाता-2004

You might also like

Leave a Reply

2 Comments on "Swami Vivekanand About Islam"

avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Taj
Guest

Please try to make a option to convert it to Urdu or English, being a Urdu Language Student finding difficulties to read in Hindi

wpDiscuz