Ilm-Ki-Ahmiyat-12

Ilm Ki Ahmiyat: Part-12

# AVERROES: Jo Log Falsafa(Philosophy) Padhtey Hai Wo Jarur Jantey Honge Averroes Ko, Inka Asal Naam “Ibn Rushd” Tha ,.. Ye Bohot Badey Falsafi (Philosopher of Secular Thought) They,..
– Aur Tamam Ki Tamam Jitni Bhi Paintings “Leonardo Da Vinci” Ne Banayi Jo Bohot Mash’hur Italiyan Painter Tha! Wo Jarur Apni Paintnings Me Har Jagah (Aksar Paitnings Ke) Koney Me Kahi Na Kahi Ibn Rushd Ko Khada (Mention) Karta Hai Ke Yeh Iss Musalman Scientist Ki Deyn Hai Jo Europe Ke Andar Renaissance (Tabdili ) Aayi,.. – @[156344474474186:]

* Aur Europe Ki Tabdili Ka Wakiya Hai Ke – Jab Ibn Rushd Ne Pahli Kitab Likhi Aur Kaha –
“Ke Agar Mai Imaan Lata Hu Apne Rab Par Tou Jaruri Nahi Ke Mai Duniya Me Inkashafat Na Karu, Balki Mera Rab Yeh Ijajat Deta Hai Ke Uspar Iman Latey Hue Uskey Makhlooq Me Uski Kaaynat Me Inkashafat Kiye Jaaye” ,..
– Isliye Ke Church Ke Nazdik Christianity Ke Nazdik Yeh Akida Tha Ke Agar Tum Imaan Latey Ho Bible Par Tou Inkashafat Karna Haraam Hai ,…

* Lekin Ibn Rushd Ne Kaha Ke Nahi! Haraam Nahi Hai.. Aur Inki Kitab Padhkar Europe Ne Sabse Pahle Ye Tarakki Ki, Ke Majhab Ko Alag Kardo! Kyunki Majahb Ijajat Nahi Deta Duniyawi Ilm Ki ,.. Tou Fir Unhone Majhab Ko Chorr Diya ,..
Lekin Ibne Rushd Ne Kaha Ke – “Aap Deen Par Yaani Akida-e-Tawheed Par Bhi Chal Sakte Hai Aur Sath Me Duniya Me Inkhshafat Bhi Kar Sakte Hai …”
– Isliye Ke Church Yeh Samjhta Tha Ke Agar Koi Inkashafat(Discoveries) Karega Tou Bible Ke Khilaf Ho Jayega ,..

# IBN FIRNAS: Inka Naam “Abbas Ibn Firnas” Tha ,.. Aur Yeh Bohot Mash’hur Scientist Gujre Hai Musalmano Me Se, Jo “Father Of Modern Aviation” Kehlatey Hai ,..
– Jitne Bhi Aaj Jahaaz Udd Rahe Hai Yeh Inki Deyn Hai, Isliye Ke Ye Pahle Insan They Jinhone Socha Ke Insan Bhi Udd Sakta Hai Hawa Me ,.. Aur Na Sirf Udd Sakta Hai, Balki Alag Alag Aalat Ke Jarye Tajurbaat(Experiment) Bhi Karte, Aur Inhi Tajurbaat Me Inki Wafat Bhi Ho Gayi ,..

* Yeh Tajurbaat Kiya Karte They Ke Kaisa Insan Udd Sakega, Tou Parindo Ke Paro Ki Banawat Par Gour Karke Inhone Pahla “Glider” Banaya Aur Uspar Khud Sawaar Hokar Apni Soch Ko Duniya Me Sahi Sabit Kar Dikhaya ,..
– Aur Inki Tajurbaat Ki Tasweero Ko “Leonardo Da Vinci” Ne Apni Paintings Me Dikhaya ..
– Aur Inki Paitnig Ko Log Dekhkar Kehte They Ke – “Dekho Leonardo Kitna Bhari Ho Gaya Tha, Kaisi-Kaisi Painting Bana Raha Hai, Jo Cheez Aaj Ijad Ho Rahi Hai Wo Gliders Apne Zamane Me Bana Raha Hai..”

(Jabki Yeh Painting Uski Apni Soch Nahi Thi! Balki Usney ‘Ibn Firnas’ aur Digar Muslim Scientist Ki Tajurbaat(Experiments) Bhari Tasweero Ko Apni Painting Me Utaarkar Europe Me Di – “Ke Dekho Musalman Kya-Kya Tarjubat Kar Rahe Hai Aur Tum Kaha Apne Andhere Me Baithe Ho ,.. Apne Dark Ages Se, Iss Andheri Duniya Se Niklo Aur Dekho Muslamano Ko Kaise-Kaise Tajurbaat Kar Rahe Hai, Jao Aur Sikho Unsey ..”
– Lihaja Wo Musalmano Ki Inkhashafat Ki Paintings Banakar Diya Karta Tha,.. Jis Se Europe Me Tabdili(Renaissance) Aayi ,..

* Yeh Musalmano Ki Deyn Hai Ke Duniya Bhar Me Renaissance(Tabdili) Aaya Aur Church Ke Shikanje Se Europe Bacha ,..
Aur Yeh Wo Zamana Tha Jab Europe Ke Andar Inkashafat Karna Haraam Tha ,..

* “Galileo” Ne Ek Inkashaf Kar Diya Tha.. Usney Kaha Ke “Duniya Bich Me Nahi Hai,.. Suraj Bich Me Hai Aur Dunia Uske Atraf Ghumti Hai..”
– Jabki Bible Kehti Hai Duniya Bich Me Hai Aur Suraj Aur Chand Uske Atraaf Ghumtey Hai ,..
– Jab Usney Yeh Inkashaf Kiya Aur Likh Diya Tou Usko Church Ne Sunday Prayer Ke Baad Saza Sunayi Aur Sadak Par Laa Kar Usko Zinda Jalaya Gaya ,… Kyunki Usney Bible Ke Khilaf Baat Ki Thi ,..

* Tou Yeh Wo Zamana Tha Jab Ek Cheez Bhi Aap Bol Nahi Sakte They Bible Ke Khilaf Uss Zamane Me Musalman Inkashafat Kar Rahe ,.. Naye-Naye Uloom Duniya Ko De Rahe Hai ,.. Muslaman 1000 Saal Aagey Chalti Thi Uss Zamane Me ,..

*Lekin Aajka Muamla Bilkul Ulta Hi Hai ,.. Isliye Ke Humne Duniyawi Uloom Ko Chorr Diya …

♥ In’sha’Allah-Ul-Azeez !!! Agley Part Me Bhi Hum Unn Musalman Scientist Ka Zikr Karenge Jinhone Apne Rab Ka Naam Lekar Ilm Haasil Kiya Aur Duniya Ko Kayi Aise Uloom Diye Jo Aaj Humari Zindagi Ka Hissa Hai ,…

☆ इल्म की अहमियत: पार्ट-१२
# एवेरोअस (AVERROES): जो लोग फलसफा (फिलॉसफी, सेक्युलर थॉट) पढ़ते है वो ज़रूर जानते होंगे एवेरोअस को इनका असल नाम “इब्न रुश्द” था! ये बहुत बड़े फ़लसफ़ी थे,..
और तमाम की तमाम जितनी भी पेंटिंग्स “लिओनार्डो-दा-विन्सी” ने बनाई जो बहुत मशहूर इटालियन पेंटर था! वो ज़रूर अपनी पेंटिंग्स में को हर जगह (अक्सर पेंटिंग के) कोने में कही न कही “इब्न रुश्द” खड़ा करता है की ये इस मुसलमान साइंटिस्ट की देन है जो यूरोप के अंदर तबदीली आई … – @[156344474474186:]
और यूरोप की तबदीली का वाकिया ये है की- जब इब्न रुश्द ने पहली किताब लिखी और कहा- “की अगर मै ईमान लता हूँ अपने रब पर तो ज़रूरी नहीं की मै दुनिया में इन्क्शाफात न करू, बल्कि मेरा रब यह इजाज़त देता है की उसपर ईमान लाते हुए उसके मख्लूक़ में उसकी कायनात में इन्क्शाफात किये जाए”…
क्यूंकि चर्च के नज़दीक क्रिसचियानिटी के नज़दीक यह अक़ीदा था की अगर तुम ईमान लाते हो बाइबिल पर तो इन्क्शाफात करना हराम है.
लेकिन “इब्न रुश्द” ने कहा की: नहीं! हराम नहीं है और इनकी किताब पढ़कर यूरोप ने सबसे पहले ये तरक्की की, की मजहब को अलग कर दो ! क्यूंकि मज़हब इजाज़त नहीं देता दुनियावी इल्म की,.. तो फिर उन्होंने मज़हब को छोड़ दिया …
लेकिन इब्ने रुश्द ने कहा की- “आप दीन पर यानी अक़ीदा-ए-तौहीद पर भी चल सकते है और साथ में दुनिया में इन्क्शाफात भी कर सकते है …
इसलिए के चर्च यह समझता था की अगर कोई इन्क्शाफात करेगा तो बाइबिल के खिलाफ हो जायेगा …

# इब्न फिरनस (IBN FIRNAS): इनका नाम “अब्बास इब्न फिरनास” था और यह बहुत मशहूर साइंटिस्ट गुज़रे है मुसलमानो में से, जो “फादर ऑफ़ मॉडर्न एविएशन” कहलाते है ,…
जितने भी आज जहाज़ उड़ रहे है यह इनकी देन है! इसलिए की ये पहले इंसान थे जिन्होंने सोचा की इंसान भी उड़ सकता है हवा में और न सिर्फ उड़ सकता है बल्कि अलग-अलग आलात के ज़रये तजुर्बात भी करते, और इन्ही तजुर्बात में इनकी वफ़ात भी हो गई …
ये तजुर्बात किया करते थे की कैसे इंसान उड़ सकेगा, तो परिंदो के परो की बनावट पर गौर करके इन्होने पहला “ग्लाइडर” बनाया और उसपर खुद सवार होकर अपनी सोच को दुनिया में सही साबित कर दिखाया …
और इनकी तजुर्बात की तस्वीरों को “लिओनार्डो द विन्सी” ने अपनी पेंटिंग में दिखाया और उनकी पेंटिंग को लोग देख कर कहते थे की- ” देखो लिओनार्डो कितना भारी हो गया था कैसी-कैसी पेंटिंग बना रहा है, जो चीज़ आज ईजाद हो रही है वो ग्लाइडर्स अपने ज़माने में बना रहा है”
जबकि यह पेंटिंग उसकी अपनी सोच नहीं थी ! बल्कि उसने ‘इब्न फिरनास’ की तजुर्बात भरी तस्वीरों को अपनी पेंटिंग में उतार कर यूरोप में दी – ” की देखो मुसलमान क्या-क्या तजुर्बात कर रहे है और तुम कहा अपने अँधेरे में बैठे हो अपनी इस अँधेरी दुनिया से निकलो और देखो मुसलमानो को कैसे कैसे तजुर्बात कर रहे है जाओ और सीखो उनसे ,…
लिहाज़ा वो मुसलमानो की इन्क्शाफात की पेंटिंग्स बनाकर दिया करता था जिससे यूरोप में तबदीली आई ..

यह मुसलमान की देन है की दुनिया भर में तबदीली आई और चर्च के शिकंजे से यूरोप बचा और यह वो ज़माना था जब यूरोप के अंदर इन्क्शाफात करना हराम था …
“गैलिलियो” ने एक इन्क्शाफात कर दिया था! उसने कहा की “दुनिया बीच में नहीं है सूरज बीच में है और दुनिया उसके अतराफ़ घूमती है”
जबकि बाइबिल कहती है दुनिया बीच में है और सूरज और चाँद उसके अतराफ़ घूमते है ,..
जब उसने यह इन्क्शाफात किया और लिख दिया तो उसको चर्च ने “संडे प्राथना” के बाद सजा सुनाई और सड़क पर ला कर उसको ज़िंदा जलाया गया क्यूंकि उसने बाइबिल के खिलाफ बात की थी …
तो यह वो ज़माना था जब एक चीज़ भी आप बोल नहीं सकते थे बाइबिल के खिलाफ! उस ज़माने में मुसलमान इन्क्शाफात कर रहे, नए-नए उलूम दुनिया को दे रहे है! मुसलमान १००० साल आगे चलते थे उस ज़माने में …

लेकिन आजका मुआमला बिलकुल उल्टा ही है इसलिए की हमने दुनियावी उलूम को छोड़ दिया …
# इंशा अल्लाह! अगले पार्ट में भी हम उन मुसलमान साइंटिस्ट का ज़िक्र करेंगे जिन्होंने आपने रब का नाम लेकर इल्म हासिल किया और दुनिया को कई ऐसे उलूम दिए जो आज हमारी ज़िंदगी का हिस्सा है ,…

To Be Continue …

• इल्म की अहमियत → Parts:

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15

Views: 3530

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar

wpDiscuz