"the best of peoples, evolved for mankind" (Al-Quran 3:110)

⭐ ‎बुतपरस्ती की इब्तेदा …

*नूह (अलैहिस्लाम) जिस कौम मे मबउस थे उस कौम मे पाँच नेक सालेहीन नेक बुजुर्ग औलिया अल्लाह थे |
– उनकी मज्लिशों मे बैठकर लोग अल्लाह को याद करते थे और मसाइल सुनते थे,
– इससे उनके दीन को तक्वियत पहुचती थी|

– जब वे ग़ुजर गए तो क़ौम मे परेशानी हुई कि अब न वो मज्लिस रही न वो मसाइल रहे, अब कहा बैठे ?
– उस वक्त शैतान ने उनके दिलों मे यह फूंक मारी कि इन बुजूर्गों की इबादतगाहों मे उनकी तस्वीर (बूत) बनाकर अपने पास रखलों |

– जब उन तस्वीरों को देखोगे तो उनका जमाना याद आ जाएगा और वह क़ैफियत पैदा हो जाएगी|
– तो उन के पाँचों के मुजस्समें बनाए गए और उन पाँचों का नाम था (1) वद , (2) सुवाअ , (3) यग़ूस , (4) नसर , (5) यऊक | उनका कुरआन मे जिक्र है ये पाँच बुत बनाकर रखे गए !
– उनका मक्सद सिर्फ तज़्कीर था की उन तस्वीरों(बुतो) के जरीए याद दिहानी हो जाएगी | उनको पूजना मक्सद नही था | शूरू मे जब तक लोगो के दिलों मे मारिफत रही, उन बुजूर्गों के असरात रहे |

– लेकिन जब दुसरी नस्ल आई तो उनके दिलों मे वह मारफत नही रही उनके सामने तो यही बुत थे |
– चूनांचे कुछ अल्लाह की तरफ मुतवज्जेह हुए और कुछ बुतों की तरफ मुतवज्जेह हुए |

– और जब तीसरी नस्ल आई तब तक शैतान अपना काम कर चुका था | उनके दिलों मे इतनी भी मारफत नही रही | उनके सामने बुत ही बुत रह गए | उन्ही को सज़्दा , उन्ही को नियाज उन्ही की नजर यहा तक की शिर्क शुरू हो गया | फिर तो नजराने वसूल किए जाने लगे मेंले और उर्स न जाने क्या क्या खुरापात शुरू हो गई ,.. – @[156344474474186:]
******************
(तफ़्सीरे इब्ने कसीर पारा 29 ,पेज. 42 ,सूर: नूह के दुसरे रूकूअ मे)

You might also like

Leave a Reply

9 Comments on "‎बुतपरस्ती की इब्तेदा …"

avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
MD RASHID
Guest

Good

Warish Alam
Guest

Good

इरफ़ान मेमन
Guest
इरफ़ान मेमन

शुक्रिया
अच्छी बातें बताई आने

MD RASHID
Guest

Umda

जीशान अहमद सिद्दीकी
Guest
जीशान अहमद सिद्दीकी

बढ़िया दिल खुस हो गया very Good..

Shazia azam qureshi
Guest

Allah neik hidayat ata farmaye tamaam muslim aur muslima ko aur neik raah par chalaye ameen!

Shazia azam qureshi
Guest

Subhan allah

Warish Alam
Guest

GooG

Rafeek malik
Guest

Allah hu akber

wpDiscuz