"the best of peoples, evolved for mankind" (Al-Quran 3:110)
Browsing Category

Aqaid Ki Islah

Eid Milad Un Nabi 2018 : जश्ने मिलाद उन नबी (ﷺ) के नाम पर केक, DJ और तवायफों का नाच

जो पूरा साल अपनी माँ की खिदमत नहीं करते वो एक दिन चुनकर "मदर डे" मनाते है, इसी तरह फादर्स डे, टीचर्स डे और न जाने कौन कौनसा डे मनाकर एक रस्म पुरी कर लेते! मिलाद का मनमानी जश्न भी इसी तरह के नफ्सपरस्तो की ईजाद करदा रस्म है जिसका जिक्र कही…
Read More...

Neki Ka Hukm Dena aur Burayi se Rokna Farz hai

♥ Mafhoom-e-Hadees: Hazarte Abdullaah Bin Mas'ood (RaziAllahu Anhu) se riwayat hai ke, RasoolAllah (Sallallahu Alaihi Wa Sallam) ne farmaaya : "Allah ne mujhse pehle Kisi Ummat mein jitne bhi Nabi bheje, unki Ummat mein se unke kuch…
Read More...

यहूदियों का ज़वाल और उरूज में उम्मते मुस्लिम के लिए इबरत

यहूदी यानी बनी इसराईल, ये नबियों की औलादें हैं. ये वो क़ौम है जिसको अल्लाह ने तमाम जहान वालों पर फ़ज़ीलत दी थी. मगर इन्होंने बार बार अल्लाह की नाफ़रमानियाँ कीं, नबियों का क़त्ल किया, अल्लाह के अहकामात की ख़िलाफ़वरज़ी की, अल्लाह के दीन में…
Read More...

Roze Ka asal Maqsad

Allah Rabbul Izzat Ne Surah Baqraah Ki Aayat 183 Me Farmaya Aur Kaha: "Aye Emaan Walo Tum Par Roze Farz Kiye Gaye, Jaise Tumse Pichli Ummato Par Farz Kiye They Ta’ake Kahi Tum Taqwa(Parhezgaari) Ikhtiyar Karo..” – (Al-Quraan 2:183) ……
Read More...

क्यों हो जाते है लोग इतने बेहरहम ? क्या इन्हें खुदा का खौफ नहीं है ?

सदियों से हम इन्सानो पर हो रहे ज़ुल्म की दास्ताँ सुनते आ रहे है, ज़ालिम इस हद्द तक क़त्ले आम करते है मानो वो इन्सान ही न हो, वो जिस किसी भी रब की इबादत करते हो उसे उसका खौफ ही न हो,.. जैसा की मौजूदा दौर में सीरिया में जो कुछ क़त्ले आम हो रहा…
Read More...

फिरका फिरका खेलने वालो को नबी सलल्लाहू अलैहि वसल्लम की अहम नसीहत

♥ मफहूम ऐ हदीस: अबू सोबान (रज़ीअल्लाहु अन्हु) से रिवायत है के नबी-ऐ-करीम (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया – बेशक मैंने अपने रब से सवाल किया : “या रब! मेरी उम्मत को कहतसाली से हलाक न करना, इनपर कोई ऐसा गैरमुस्लिम दुश्मन मुसल्लत ना हो जो…
Read More...

भरोसे का अलमबरदार होता है मुसलमान (Muslim means Trustworthy Person)

एक जमाने में मुसलमान की मिसाल ISO सर्टिफिकेट वाले भरोसेमंद चीज़ की तरह हुआ करती थी, यानी मुसलमान है तो शरीफ ही होगा, मुसलमान है तो इंसाफ करता ही होगा, मुसलमान है तो जुवा, शराब, सूद रिश्वत इन सबसे भी बचता ही होगा, मुसलमान है तो औरतो की…
Read More...

गुलामो का ये कहना के नाकिस है ये किताब, सिखाती नहीं हमे गुलामी के उसूल: डॉ. अल्लामा इकबाल

Gulaamo ka ye kehna ke naqees hai ye kitaab (Quran), Sikhaati nahi hume Gulaami ke usool: Dr.Allama Iqbal दुनिया परस्ती के फ़ितनो में मुब्तेला होकर अल्लाह की नाजिल करदा किताब (कुरान) से दूरी इख़्तियार करने वाले बाज़ मुसलमानों का नजरिया…
Read More...

अल्लाह की रहमत का एक खुबसूरत वाकिया

Roman Urduहिंदी इब्न खुदामा अपनी किताब अत-तवाबिंन में बनी इस्राईल का वाकिया पेश करते हुए कहते है के, मूसा (अलैहि सलाम) के ज़माने में  एक बार केहत आया (सुखा पड़ा), आप अपने तमाम सहाबा के साथ अल्लाह की बारगाह में हाथ उठाकर बारिश के लिए दुआ करते…
Read More...

Allah ki Rehmat ka ek Khubsurat Wakiya

Roman Urduहिंदी Ibn khudama apni kitab At-Tawabin me bani israyeel ka wakiya pesh karte hue kehte hai ke, Musa (AS) ke zamane me ek baar kehat(drought) aaya, aap apne tamam sahaba ke sath Allah ki baargah me hath uthakar barish ke liye…
Read More...

Akhirat Ki Kamiyabi – Iman aur Nek Amal

Allah rabbul izzat Qurane Kareem me farmata hai "Zamane Ki Qasam ! Insan Dar-Haqikat Ghate Me Hai, Siway Unn Logon Ke Jo Imaan Laye Aur Nek Aamal Karte Rahe Aur Ek Dusre Ko Haq Ki Naseehat Aur Sabr Ki Talkin Karte Rahe." – (Surah Asr:…
Read More...

आज़ादी मुबारक …. ये आज़ादी हमें याद दिलाती है (Happy Independence Day)

*तमाम हिन्दोस्तानी भाई बहनों को यौम-ए-आज़ादी मुबारक(happy independence day).... ये आज़ादी हमें याद दिलाती है, कि हम उन ज़ालिम अंग्रेजो से मुकाबला कर के कभी उनके चंगुल से छूट न पाएँ, इसलिए 1857 की आज़ादी की पहली जंग के बाद अंग्रेजो ने…
Read More...

तलाक, हलाला और खुला की हकीकत (Talaq, Halala aur Khula Ki Hakikat)

• तलाक की हकीकत: यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए, पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह…
Read More...

Momin Dusre Momin Ka Aaeena Hai

♥ Mafhoom-e-Hadees: Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Farmatey Hai – Momin Dusre Momin Ka Aaeena (Mirror) Hai, Aur Momin Dusre Momin Ka Bhai Hai. Jo Nuksaan Ko Uss Se Door Karta Hai Aur Uski Gair-Moujudgi Me Uski Hifazat Karta…
Read More...

Haa! Allah ki Madad Kareeb hi hai

!!! Bismillah-Hirrahman-Nirrahim !!! Aaj Hum Choti Choti Musibato par Allah se mayus ho jatey hai, Allah ki rehmat se Na'ummid ho jatey hai jabki ye Imanwalo ko Zeba nahi deta,.. - kyunki humse pahle Nabi-e-Kareem (Sallallahu Alaihay…
Read More...

अल्लाह वालो की सिफत

एक बार हज़रत उमर रज़ियल्लाहु अनहु बाज़ार में चल रहे थे। वह एक शख्स के पास से गूज़रे जो दुआ कर रहा था। "ऐ अल्लाह!! मुझे चन्द लोगों में शामिल कर।" "ऐ अल्लाह मुझे चन्द लोगों में शामिल कर।" उमर रज़ियल्लाहु अन्हु ने उससे पूछा। "यह दुआ तुमने…
Read More...

Biwi ke Huqooq Qurano Sunnat ki Roshni me

!!! Bismillah-Hirrahman-Nirrahim !!! Allah Rabbul Izzat Quran-e-Kareem me farmata hai: ❝ Aur Biwiyo ke saath Acchi tarah raho saho. (Quran 4:19) ❝ Aurto ka Haq Mardo par waisa hee hai jaisa Dastoor ke Mutabiq (Mardo ka haq)…
Read More...

♥ Mohabbat Ki Haqeeqat

Lafz-e-Mohabbat Hum Apni Zindagi Anginat martaba Sun'te Rehte hai , Jabki Iske Haqiki Maane Aur Mafhoom se Hum Bekhabar hai, Tou Lihaja Is Post Ke Waseele Se Aayiye Ek Misal Ke Tehat Ye Wajeh Kar Dete Hai Ke Aakhir me "♥ Hai Kya Ye Mohabbat…
Read More...

Hadees ke me’amle me chaan-bin aur Ahtiyaat

Allah Rabbul Izzat Quran-e-Kareem me fermata hai: ♥ Allah ke Rasool (Salallahu Alaihi Wasallam) ne farmaya: Aur Jis tarha Allah Ta’ala ne apni Itaa‐at ko farz kiya hai isi tarha apne Rasool(ﷺ) ki Ita‐at ko bhi apne bando par…
Read More...

Ashab-e-Feel Ka Wakiya (Hathi walo ka Wakia)

*Huzoor Akkadas Rasool'Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Paidaish Se Kuch Hi Din Pahle Yaman Ka Badshah “Abraha” Hathiyon Ki Fouz Lekar Kaaba Dhane Ke Liye Makka Par Hamla Aawar Hua Tha. - Abraha Ne Yaman Ke Darool Saltanat “San’aa”…
Read More...

Tawheed aur Shirk (Part 3)

# Abu Talib, Abu Lehab aur Abu Jehal Ka Hashr 1. Abu Talib: Ye Shakhssiyat Kisi Taruf Ki Mohtaz Nahi. Har Seerat Ka Talibe Ilm Abu Talib Ke Talluk Se Jaanta Hai. Yeh RasoolAllah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ke Chachaon Me Se Ek Chacha…
Read More...

Tawheed aur Shirk (Part:2)

# Kalma-e-Shahadat "La Ilaha Illallah" Ke Taqaze ... Islam Ke 5 Faraiz (Kalma-e-Shahadat, Namaz, Roza, Zakaat Aur Hajj) Me Hum Pahla Kalma (Kalma-e-Shahadat) Tou Badi Aasani Se Padh Letey Hai. Lekin Iski Ahmiyat Se Bekhabar Hai..…
Read More...

Tawheed aur Shirk : Part:1

✦ Mushriko ke Nek Aamal Unhe Aakhirat me koi Fayda nahi Dega: ♥ Mafhoom-e-Hadees: Ek Roz Ummhatul Momineen Hazrate Ayesha Siddiqa (Razi'Allahu Anha) Ne Rasool'Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Se Ek Shakhs Ke Talluk Se Sawaal Kiya - Ya…
Read More...