WaliAllah-ka-Ahtaram

Bujurgaan-e-Deen Ka Ahtraam Hum Par Wajib Hai ? ….

• Sawaal: Aksar Log Kahte Hai Ke Tamam Bujurgaan-e-Deen Aur Auliya Allaho Ko Inka Martba Dena Chahiye, Tou Humko Iss Mu’amle Me Kya Karna Chahiye? Aur Unke Talluk Se Log Bohot Saare Kissey Sunatey Hai .. Hum Yeh Kaise Maanley Jiski Koi Tasdik Shuda Daleel Hi Na Ho.. Fir Aise Mu’amle Me Hume Kya Karna Chahiye?

» Jawaab: Sabse Pahli Baat Ke Bujurgaan-e-Deen Ka Ahtraam Humpe Wajib Hai, Aur Sirf Bujurgaane Deen Ka Hi Nahi, Balki Tamam Momin Ka Ahtram Humpar Wajib Hai ,..
Aur Sirf Momin Ka Hi Nahi, Bulki Allah Rabbul Izzat Ne Tamam Aulade Adam Ka Ahtraam Humpar Wajib Kiya Hai.

♥ Ba’Qoul Quraane Majid : “Wa laqad Karamnaa Bani Aadam” – (Surat al-‘Israa, 17:70)..
*Jab Allah Ne Ikram Diya Tou Lazim Hai Ke Hum Sab Bhi Ek-Dusre Ka Ikram/Ahtraam Karey..
Aur Hum’me Jo Muttaki Parhezgaar Ho, TaqwaWale Aur Deendaar Ho, Nek Log Ho Yakinan Inki Izzat, Inka Ahtraam Hum Par Wajib Hai ,..

*Ab Raha Mu’amla Ke Kuch Log Bujurgaane Deen Ke Talluk Se Wakiyat Sunate Hai Jo Ki Tasdik Shuda Nahi Hoti Tou Aise Muamle Me Hume Kya Karna Chahiye ?

*Yaad Rakhiye ! Kabhi Youn Hota Hai Ke – “Shakhsiyat Durust Hoti Hai, Lekin Log Galat Wakiyat Unke Talluk Se Gadh Letey Hai, Tou Unn Galat Wakiyat Se Uss Shakhsiyat Ko Galat Nahi Samjhna Chahiye Humne ,..”

• Jaise Misaal Ke Taur Pe – Agar Allah Rabbul Izzat Quraan Me Isa (Alaihi Salam) Ke Talluk Se Tafsilat Na Deta Tou Hum Samjhte Ke Isa (Alahi Salam) Bohot Bada Gumraah Shakhs They, Jisne Itni Badi Insaniyat Ko Gumraah Kiya …
*Lekin Rabbul Izzat Ne Quraan Me Tafsilat Di Ke – “Isa (Alaihi Salam) Humare Nabi They ,.. Aur Unhone Ne Bhi Deen-e-Haq Ki Dawat Di Apni Ummat Ko, Lekin Baad Ke Logon Ne Unka Paigaam Badal Diya Apne Mafad Ke Liye ,…
Tou Yeh Tafseelat Aaney Ki Vajah Se Humne Kaha Ke Isa (Alaihi Salam) Allah Ke Nabi They..

*Tou Aisa Hota Hai Ke Nek Logon Ke Naam Se Baaz Log Itney Burey Kaam Kartey Hai Tou Hume Lagta Hai Ke Wo Shakhs Hi Galat Tha..
Jo Ki Bohot Galat Gumaan Hota Hai..

*Lihaja Kisi Shaksh Ke Kisi Galat Amal Ke Vajah Se Bujurgon Par Tohmat Lagana Bilkul Bhi Durust Nahi …
*Aur Unn Tamaam Log Jo Parda Farma Chukey Hai Unke Talluk Se Husne Jehan Rakhiye, Acha Gumaan Rakhiye ,..
♥ Bilkhusus Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Farmatey Hai Ke – “Jo Mar Gaye, Wo Apne Hisab Ko Pohoch Gaye, Unke Talluk Se Husne Guman Rakho. Jab Bhi Kaho Accha Kaho! Bura Mat Kaho ..” – (Sunan An-Nasai, Vol 3, The Book of Funerals, Hadith No,1938) – @[156344474474186:]

*Lihaja Hume Dargujar Karna Chahiye Ke Wo Kaise They, Warna Kuch Log, Kuch Galat Logon Ki Biddat Ko Dekhkar Wo Bicharey Shakhs Ko Buraa Boltey Hai Ke “Arey ! Wo Baba Ko Man’ney Wale Log Biddati Hai”..
Yeh Andaze Gumaan Tou Bohot Hi Galat Hai.. Hume Unko Bura Bhala Nahi Kehna Chahiye.. Ho Sakta Hai Ke Wo Nek Ho.. Aur Man’ne Walo Ne Galatiya, Biddatey Ijad Ki Unke Naam Se .. Aur Aisa Hota Bhi Hai…

*Tou Ab Jo Wakiyat Hotey Hai, Tou Jo Besanad Hai Beharhaal Unko Aap Naa Maaney ..
Haa! Lekin Kuch Wakiyat Hotey Hai Jisme Allah Ke Nek Bando, Allah Ke Waliyon Ke Ibratnaak Wakiyat Hotey Hai, Wo Wakiyat Sun’na Galat Nahi..

*Lekin Aksar Log Mohabbat Me Gulu Kar Jatey Hai, Aur Aise Aise Wakiyat Unn Shakhsiyat Ko Gadh Letey Hai Ke Jo Khud Ambiya (Alaihi Salam) Se Nahi Hui Wo Unko Mansub Kar Detey Hai ..
• Jaise Misaal Ke Taur Pe – “Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ke Daur Me Jango Ka Jab Mu’amla Aata Tou Rasool’Allah Sahaba Se Tawoon (Donation) Ki Appeal Kartey,

*Lekin Aaj Ke Dour Me Kuch Log Kahte Hai Ke – “Unn Falah-Falah Hazrat Ke Paas Jao Tou Sona-Chandi Mill Jata Hai” .. Subhan’Allah!!!

*Yeh Kaise Ho Sakta Hai.. Tou Aap Samjh Jayiye Ke Wakiyat Durust Nahi Hai..
Aur Jo Besanad Wakiyat Hotey Hai Aap Unhe Na Maney.. Aur Unn Wakiyat Ke Vajah Se Uss Shakhsiyat Par Ilzam Na Lagaye.. Ellah Ke Fir Wajeh Ho Jaye Ki Wo Shakhsiyat Wakay Me Jhuti Thi Ya Wo Shakhs Aise Bina Sir-Pair Ke Wakiyat/Afwah Apne Barey Me Mash’Hoor Karta ,..
Warna Umooman Taor Se Aap Unke Barey Me Accha Khayal Rakhey ,…

* Aur Har Shakhs Ko Chahiye Ke Wo Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Sirate Mubarak Ka Ilm Haasil Karey, Taaki Aisi Baato Ka Mu’azna Karna Aasan Ho Jaye Jo Log La-Ilmi Me Ambiya (Alaihi Salaato Salam) Ki Shaan Me Gustakhi Karne Lag Jatey Hai ,…

♥ Aakhir Me Allah Rabbul Izzat Se Dua Hai Ke –
# Allah Ta’ala Hume Haq Sun’ne, Samjhne Aur Uss Par Amal Ki Taufiq Dey..
# Jab Tak Hume Zinda Rakhey Islam Aur Imaan Par Zinda Rakhye…
# Khatma Humara Imaan Par Ho …
!!! Wa Akhiru Dawana Anilhamdulillahe Rabbil A’lameen !!!

Firqa

☆ बुर्ज़ुगान-ए-दीन का अहतराम हम पर वाजिब है?….

• सवाल: अक्सर लोग कहते है की तमाम बुर्ज़ुगान-ए-दीन और औलिआ-अल्लाहो को इनका मर्तबा देना चाहिए तो हमको इस मुआमले में क्या करना चाहिए?
और उनके ताल्लुक से लोग बहुत सारे किस्से सुनते है! हम यह कैसे मान लें जिसकी कोई तस्दीक शुदा दलील ही न हो! फिर ऐसे मुआमले में हमे क्या करना चाहिए?

» जवाब: सबसे पहली बात की “बुर्ज़ुगान-ए-दीन” का अहतराम हम पे वाजिब है, और सिर्फ बुर्ज़ुगान-ए-दीन का ही नहीं, बल्कि तमाम मोमिन का अहतराम हम पर वाजिब है!
और सिर्फ मोमिन का ही नहीं अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने तमाम औलादे आदम का अहतराम हमपर वाजिब किया है,
♥ बा कौल क़ुरान-ए-मजीद : “व लक़द करमना बनी आदम”(सूरह अल-इसरा १७:७०)

*जब अल्लाह ने इकराम दिया तो लाज़िम है की हम सब भी एक-दूसरे का इकराम/अहतराम करे! और हममे जो मुत्तक़ी परहेज़गार हो, तक़वा वाले और दीनदार हो, नेक लोग हो यक़ीनन इनकी इज़्ज़त इनका अहतराम हम पर वाजिब है,…

*अब रहा मुआमला की कुछ लोग बुर्ज़ुगान-ए-दीन के ताल्लुक़ से वाक़ियात सुनाते है जो की तस्दीक शुदा नहीं होती,… तो ऐसे मुआमले में हमे क्या करना चाहिए?

याद रखिये! कभी यू होता है की -“शख्सियत दुरुस्त होती है, लेकिन लोग गलत वाक़ियात उनके ताल्लुक़ से गढ़ लेते है, तो उन गलत वाक़ियात से उस शख़्सियत को गलत नहीं समझना चाहिए” ….
• जैसे मिसाल के तौर पर– अगर अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त क़ुरान में ईसा (अलैहि सलाम) के ताल्लुक़ से तफ़सीलात न देते तो हम समझते की ईसा (अलैहि सलाम) बहुत बड़े गुमराह शख्स थे, जिसने इतनी बड़ी इंसानियत को गुमराह किया लेकिन रब्बुल इज़्ज़त ने क़ुरान में तफ़सीलात दी की – ईसा (अलैहि सलाम) हमारे नबी थे और उन्होंने भी दीन-ए-हक़ की दावत दी अपनी उम्मत को लेकिन बाद के लोगों ने उनका पैगाम बदल दिया अपने मफाद के लिए ,..

तो ये तफ़सीलात आने की वजह से हमने कहा की ईसा (अलैहि सलाम) अल्लाह के नबी थे!!!

तो ऐसा होता है की नेक लोगों के नाम से बाज़ लोग इतने बुरे काम करते है तो हमे लगता यही की वो शख्स ही गलत था! जो की बहुत गलत गुमान होता है! लिहाज़ा किसी शख्स के किसी गलत अमल की वजह से बुर्जुगों पर तोहमत लगाना बिलकुल भी दुरुस्त नहीं ,…

और उन तमाम लोग जो पर्दा फारमा चुके है उनके ताल्लुक़ से हुस्ने-ज़ेहन रखिये! अच्छा गुमान रखिये !!
♥ बिलखुसूस रसूल अल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) फरमाते है की- “जो मर गए वो अपने हिसाब को पहुँच गए! उनके ताल्लुक़ से हुस्ने गुमान रखो जब ही कहो अच्छा कहो! बुरा मत कहो” – (सुनान अन-नसाई,हिस्सा ३ द बुक ऑफ़ फनेरल्स,हदीथ न. १९३८) – @[156344474474186:]

*लिहाज़ा हमे दरगुज़र करना चाहिए की वो कैसे थे! वरना कुछ लोग, कुछ गलत लोगों की बिद्दत को देखकर वो बिचारे शख्स को बुरा बोलते है की “अरे! वो बाबा को मानने वाले लोग बिद्दती है”
यह अंदाज़े गुमान तो बहुत ही गलत है!
हमे उनको बुरा भला नहीं कहना चाहिए! हो सकता है की वो नेक हो और मानने वालो ने गलतिया और बिद्दत ईजाद की उनके नाम से! और ऐसा होता भी है ,…

*तो अब जो वाक़ियात होते है, तो जो बे सनद है बहरहाल उनको आप ना माने !!
हाँ! लेकिन कुछ वाक़ियात होते है जिसमे अल्लाह के नेक बन्दों, अल्लाह के वालियों के इबारत्नाक वाक़ियात होते है, वो वाक़ियात सुनना गलत नहीं!!

*लेकिन अक्सर लोग मोहब्बत में गुलु कर जाते है, और ऐसे-ऐसे वाक़ियात उन शख्सियत को गढ़ लेते है की जो अम्बिया (अलैहि सलाम) से नहीं हुई वो उनको मंसूब कर देते है!…
• जैसे मिसाल के तौर पर– “रसूल अल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के दौर में जंगो का जब मुआमला आता तो रसूल’अल्लाह सहाबा से तावून की अपील करते,..

*लेकिन आज के दौर में कुछ लोग कहते है की “उन फलाह-फलाह हजरात के पास जाओ तो सोना-चाँदी मिल जाता है ” सुभान’अल्लाह !!!

*यह कैसे हो सकता है? तो आप समझ जाइये की वाक़ियात दुरुस्त नहीं है! और जो बे सनद वाक़ियात होते है आप उन्हें ना माने,… और उन वाक़ियात के वजह से उस शख्सियत पर इलज़ाम न लगाये इल्लाह के फिर वाजेह हो जाए की वो शख्सियत वाकई में झूठी थी या वो शख्स ऐसे बिना सिर-पैर के वाक़ियात/अफवाह अपने बारे में मशहूर करता!!! वरना अमूमन तौर से आप उनके बारे में अच्छा ख्याल रखे,…

*और हर शख्स को चाहिए की वो रसूल’अल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की सीरत-ए-मुबारक का इल्म हासिल करे! ताकि ऐसी बातो का मुअज़्ना करना आसान हो जाए जो लोग लाइल्मी में अम्बिया (अलैहि सलातो सलाम) की शान में गुस्ताखी करने लग जाते है!!! ..

♥ आखिर में अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त से दुआ है की –
• अल्लाह ताला हमे हक़ सुनने समझने और उस पर अमल की तौफ़ीक़ दे
• जब तक हमे ज़िंदा रखे इस्लाम और ईमान पर ज़िंदा रखे
• खात्मा हमारा ईमान पर हो
!!! व अखीरु दवाना अनिल्हम्दुलिल्लाह रब्बिल अ लमीन !!!

Views: 4933

Leave a Reply

3 Comments on "Bujurgaan-e-Deen Ka Ahtraam Hum Par Wajib Hai ? …."

Notify of
avatar

Sort by:   newest | oldest | most voted
hamid raza
Guest
hamid raza
1 year 7 months ago

hazrat isa alaihisslam allah ke nabi hai.
the kahna galat hai

Abdul Hafeez
Guest
Abdul Hafeez
1 year 6 months ago

Hazrat eesa alaihissalam allah ke nabi hain ye humara aqeeda hai aur buzurgane deen par angusht numayi se parhez karein

Akram
Guest
Akram
11 months 12 days ago

buzrgane deen ka ehtram wajib hai ebadat nahi……

wpDiscuz