"the best of peoples, evolved for mankind" (Al-Quran 3:110)

Bagair Sabr Ke Emaan Bekar Hai ….

♥ Sabr ♥ Farman-e- Hazrat Ali(RaziAllahu Anhu)
∗ Sabr Ko Emaan Se Wohi Nisbat Hai Jo Sar Ko Jism Se Hai, Jis Tarha Bagair Sar Ke Jism Bekaar Hai Issi Tarha Bagair Sabr Ke Emaan.
∗ Daulat, Hukumat Aur Musibat Me Aadmi Ke Aql Ka Imtihaan Hota Hai, Ki Aadmi Sabr Karta Hai Ya Galat Qadam Uthata Hai.
∗ Sabr Ek Aisi Sawaari Hai Jo Sawaar Ko Kabhi Girne Nahi Deti.
∗ Aisa Bohat Kam Hota Hai Ke Jaldbaaz Nuqsaan Na Uthaye, Aur Aisa Ho Hee Nahi Sakta Ke Sabr Karne Wala Naakaam Ho.
∗ Sabr Emaan Ki Buniyad, Sakhawat Insan Ki Khubsurti, Sacchai Haq Ki Zaban, Narmi Kamyabi Ki Kunji aur Mout Ek Bekhabar Sathi Hai.

♥ सब्र ♥ फरमाने हज़रत अली (रज़ी अल्ल्लाहू अन्हु)
» सब्र को ईमान से वोही निस्बत है जो सिर को जिस्म से है.
» दौलत, हुक़ूमत और मुसीबत में आदमी के अक्ल का इम्तेहान होता है कि आदमी सब्र करता है या गलत क़दम उठता है.
» सब्र एक ऍसी सवारी है जो सवार को अभी गिरने नाह देती।
» ऐसा बोहोत कम होता है के जल्दबाज़ नुकसान न उठाये , और ऐसा हो ही नही सकता के सब्र करने वाला नाक़ाम हो.
» सब्र – इमान की बुनियाद, सखावत (दरियादिली) – इन्सान की खूबसूरती, सच्चाई – हक की ज़बान, नर्मी – कमियाबी की कुंजी, और मौत – एक बेखबर साथी है .

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

Leave a Reply

avatar
Subscribe for Islamic Post Updates
Subscribe for Islamic Post Updates
Sign up here to get the Daily Islamic post updates, Islamic News, Hajj Umrah package offers delivered directly to your inbox.