"the best of peoples, evolved for mankind" (Al-Quran 3:110)

Aur Uss Shakhs se badh kar koun Gumraah ho sakta hai Jo …

और उस शख़्श से बढ़ कर कौन गुमराह हो सकता है जो

Roman Urdu

*Bismillahi-r-Rahmani-r-Rahim*
“Aur Uss Shakhs se badh kar koun Gumraah ho sakta hai jo Allah ke siwa aise shakhs ko pukare jo usey Qayamat tak jawab na de”
– (Al-Quran 65:05)

हिंदी

*बिस्मिल्लाह अर्रहमान निर्रहीम*
“और उस शख़्श से बढ़ कर कौन गुमराह हो सकता है जो अल्लाह के सिवा ऐसे शख़्श को पुकारे जो उसे क़यामत तक जवाब ना दे “
– (अल कुरान: 65:05)

You might also like

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
wpDiscuz